Tuesday, June 15, 2010

अजनवी

अजनवी
अजनवी तो नहीं पर हो गया हूँ
वही, जहा बसंत खो रहा हा जीवन का ।
शहर की तारीफ अधिक भी का लगती है
क्योंकि ऊँचा कद तो ,
इसी शहर का तो दिया है ।
दुर्भाग्य नहीं तो और क्या ?
जीवन निचोड़कर जहा से
कुछ खनकते सिक्के पाता हूँ
जहा पद की तनिक ना पहचान
वहा घाव पर घाव पाता हूँ ।
योग्यता तड़प उठती है
कद घायल हो जाता है वही ।
बूढी श्रेष्ठता का मान रखने वाले परखते है
अपनी तुला पर और बना देते है
निखरे कद को अजनवी ।
पद दौलत से बेदखल भले हूँ
सकून से जी रहा हूँ
शहर की पहचान की छाव में
यही मेरा सौभाग्य है ।
अजनवी हो सकता हूँ
लकीर खीचने वालो के लिए
पर ना यह शहर मेरे लिए
और
ना मै
इस शहर के लिए अजनवी हूँ । नन्दलाल भारती १५.०६.२०१०

1 comment:

  1. नमस्ते,

    आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    ReplyDelete